मोहाली में हार से खुल रहा है T20 वर्ल्ड कप जीतने का रास्ता, भारत को मैच में हार मिलने पर भी भारत को हो रहा है फायदा

Join Now

मोहाली में खेले गए पहले टी20 मैच में टीम इंडिया को 4 विकेट से हार मिली. 208 रन बनाने के बावजूद भारतीय टीम ने मैच गंवा दिया. हार की वजह जाहिर तौर पर खराब गेंदबाजी और ढीली लाइन-लेंग्थ रही. रोहित एंड कंपनी की इस हार के बाद लगातार टीम के खिलाफ बयानबाजी जारी है. कई पूर्व क्रिकेटर भारतीय टीम की रणनीति और उसके खिलाड़ियों के प्रदर्शन को कोस रहे हैं लेकिन सिक्के का दूसरा पहलू ये भी है कि इस हार से टीम इंडिया को फायदा हो रहा है. टी20 वर्ल्ड कप 2022 के आगाज से पहले ये हार कहीं ना कहीं भारतीय टीम को फायदा पहुंचाने वाली है. जानिए कैसे?

गेंदबाजों की सही पहचान हो रही है

मोहाली में टीम इंडिया के गेंदबाजों ने बेहद खराब लाइन-लेंग्थ से गेंदबाजी की और नतीजा ऑस्ट्रेलिया ने 4 गेंद पहले ही 209 रनों का विशाल लक्ष्य हासिल कर लिया. भुवनेश्वर कुमार ने 4 ओवर में 52 रन लुटाए. युजवेंद्र चहल ने 20 गेंद में 42 रन दे दिए. हर्षल पटेल ने 4 ओवर में 49 रन लुटा डाले. पंड्या और उमेश यादव का इकॉनमी रेट भी 10 रन प्रति ओवर से ज्यादा रहा. लेकिन इस मैच से कहीं ना कहीं गेंदबाजों की सही पहचान हो गई है. कौन सा गेंदबाज डेथ ओवर्स में गेंदबाजी के लायक है. कौन सा गेंदबाज पावरप्ले में अच्छी गेंदबाजी कर सकता है? मतलब मैच से साफ है कि भुवनेश्वर को डेथ ओवर्स में गेंदबाजी कराना फिलहाल सही फैसला नहीं होगा. वहीं अक्षर पटेल को कैसे इस्तेमाल करना है इसके बारे में भी टीम मैनेजमेंट समझ गया होगा. अब टीम टी20 वर्ल्ड कप के लिहाज से सही फैसले ले सकती है.

सबसे कमजोर पक्ष आया सामने

मोहाली टी20 से भारत का सबसे कमजोर पक्ष भी उसके सामने आ गया. बात हो रही है फील्डिंग की जिसका स्तर मोहाली में काफी खराब देखा गया. अक्षर पटेल, केएल राहुल और हर्षल पटेल ने आसान कैच टपकाए. कैच छूटने से टीम इंडिया को भारी नुकसान हुआ. टी20 वर्ल्ड कप से पहले इस पक्ष पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा.

पक्की हो रही है प्लेइंग इलेवन

मोहाली में हार मिली लेकिन टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन में किन सुधारों की जरूरत है ये बात भी रोहित शर्मा को पता चली होगी. खासतौर पर गेंदबाजी के मोर्चे पर टीम इंडिया मैनेजमेंट को किन खिलाड़ियों का चयन करना है जाहिर तौर पर ये बात साफ हुई होगी.

बैटिंग की रणनीति होगी और पुख्ता

भले ही टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने 208 रन बना लिए हों. लेकिन यहां देखने वाली बात ये है कि इसमें रोहित और विराट का योगदान ना के बराबर रहा. ऐसे में ये दोनों खिलाड़ी अपनी बल्लेबाजी की रणनीति और पुख्ता कर सकेंगे. क्योंकि अगर ये दो खिलाड़ी विकेट पर टिकेंगे तो जाहिर तौर पर रनों की संख्या और ज्यादा होगी.