Join Now

Ishan Kishan: बांग्लादेश और भारत के बीच 3 मैचों की वनडे सीरीज़ का आखिरी और तीसरा मुकाबला 10 दिसंबर को चटगांव के ज़हूर अहमद चौधरी स्टेडियम में खेला गया. जिसमें भारत ने 227 रनों के बड़े अंतराल से मुकाबला जीत लिया. हालांकि शुरुआती दोनों मुकाबले जीतने के बाद बांग्लादेश ने यह रोमांचक श्रृंखला अपने नाम कर ली थी. वहीं भारत को श्रृंखला का आखिरी मैच जिताने में ईशान किशन (Ishan Kishan) ने दोहरा शतक जड़ते हुए अहम भूमिका निभाई. ऐसे में उन्हें “प्लेयर ऑफ़ द मैच” के खिताब से भी नवाज़ा गया. जिसके बाद उन्होंने बड़ा बयान भी दिया है.

Ishan Kishan ने दिया बड़ा बयान

आपको बता दें कि बांग्लादेश के खिलाफ तीसरे वनडे में भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज़ ईशान किशन ने आक्रामक अंदाज़ में बल्लेबाज़ी करते हुए एक अविश्वसनीय दोहरा शतक जड़ा है. उन्होंने 131 गेंदों में 24 चौकों और 10 गगनचुंबी छक्कों की मदद से 210 रन बनाए हैं. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 160.31 का था. इस धमाकेदार पारी के बाद ईशान (Ishan Kishan) ने “प्लेयर ऑफ़ द मैच” का खिताब जीतते हुए कहा कि,

“मुझे लगता है कि यह बल्लेबाजी के लिए एक आदर्श विकेट था. मेरे लिए भी बिल्कुल सही स्थिति थी. मैं गेंद को ठीक से देखकर फ्लो के साथ खेलने की कोशिश कर रहा था. मुझे लगता है कि जब आपकी टीम में इतने सीनियर खिलाड़ी हैं. हम बातचीत करते रहे हैं. यहां आप कोशिश करते हैं कि कम पाकर बहुत कुछ पा लें.”

“चीज़ें मेरे हित में गई” – ईशान किशन

ईशान किशन ने आगे अपने बयान में इस बात का भी ज़िक्र किया कि चीज़ें उनके हित में गई. साथ ही उन्होंने इस बात का भी खुलासा किया कि विकेट देखने के बाद उन्हें पता था कि यह अच्छा खेलेगी. इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने यह भी बताया कि वह बल्लेबाज़ी के दौरान गेंदों और गेंदबाज़ों को अपना निशाना बना रहे थे और ज़्यादा कुछ नहीं सोच रहे थे. ईशान ने कहा कि,

“सपोर्ट स्टाफ से मुझे काफी मदद मिली. मैं सिर्फ और गेंदबाज को चुन-चुन कर मार रहा था, चीजें मेरे हित में गई. विकेट को देखने के बाद मुझे पता था कि यह अच्छा खेलेगा. मैं खराब गेंदों को मारने की कोशिश कर रहा था. टीम में फिटनेस को लेकर काफी बातचीत चल रही है.”