इंदौर टेस्ट मैच में दहाड़ते शेर से भीगी बिल्ली कैसे बन गई टीम इंडिया, जानिए 5 बड़ी वजह

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच इंदौर में खेला गया. जिसमें नागपुर और दिल्ली टेस्ट मैच में तीन दिन में हारने वाले ऑस्ट्रेलिया ने दमदार पलटवार किया और तीसरे टेस्ट मैच में भारत को तीसरे ही दिन 9 विकेट से हराया. हालांकि चार टेस्ट मैचों की सीरीज में टीम इंडिया अभी भी 2-1 से आगे हैं. ऐसे में जानते हैं कि इंदौर टेस्ट मैच में क्या पांच प्रमुख वजह रही. जिससे टीम इंडिया के दहाड़ते शेर तीसरे टेस्ट मैच में भीगी बिल्ली की तरह बन गए.

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी और 109 रन पर हुए ढेर

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच इंदौर टेस्ट मैच में टीम इंडिया के हार की पहली वजह कप्तान रोहित शर्मा का टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनना भी रहा. इंदौर टेस्ट मैच की पिच को शायद रोहित शर्मा भांप नहीं सके और टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाज करना सही समझा. इसका आलम यह रहा कि पहले दिन ही पिच पर ऑस्ट्रेलियाई स्पिनरों को काफी मदद मिली और टीम इंडिया 109 रनों पर ऑलआउट हो गई. यहीं से टीम इंडिया मैच में पीछे होती चली गई. पहली पारी में भारत के लिए सबसे अधिक 22 रन विराट कोहली ही बना सके थे. जबकि पांच बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं पर सके थे. ऑस्ट्रेलिया के लिए पहली पारी में पांच विकेट मैथ्यू कुह्नमैन ने चटकाए थे.

जडेजा की नो बॉल

दिल्ली टेस्ट मैच के दौरान दोनों पारी मिलाकर 10 विकेट चटकाने वाले टीम इंडिया के धाकड़ स्पिनर रवींद्र जडेजा इस मैच के विलेन बनते नजर आए. जडेजा पहले दिन बेहतरीन गेंदबाजी कर रहे थे और ऑस्ट्रेलिया के मार्नस लाबुशेन को शून्य पर आउट कर डाला था. हालंकि ये गेंद नो बॉल निकली और लाबुशेन आउट होने से बच गए. इस तरह 12 रन पर ऑस्ट्रेलिया का दूसरा विकेट गिरते-गिरते रह गया और लाबुशेन ने बाद में ख्वाजा के साथ दूसरे विकेट के लिए 96 रनों की साझेदारी निभा डाली. लाबुशेन ने 31 रन बनाए और ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में यहीं से वापसी कर डाली.

लायन का हाहाकार

ऑस्ट्रेलिया के लिए इंदौर की स्पिन पिच पर ऑस्ट्रेलिया के नाथन लायन ने विकेटों की झड़ी लगा डाली. जिससे टीम इंडिया उनकी गेंदों से पार नहीं पा सकी. लायन ने पहली पारी में तीन विकेट चटकाए तो इसके बाद दूसरी पारी में लायन ने भारत के 8 बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया. इस तरह दोनों पारी में 11 विकेट चटकाने के साथ ऑस्ट्रेलिया की जीत के हीरो लायन रहे. लायन ने दोनों पारी में चेतेश्वर पुजारा को चलता किया और टेस्ट क्रिकेट इतिहास में सबसे अधिक 13 बार पुजारा को आउट करने वाले वह इकलौते गेंदबाज बन गए हैं.

 

भारतीय बल्लेबाज रहे फ्लॉप

टीम इंडिया के लिए इंदौर टेस्ट मैच में रोहित शर्मा, विराट कोहली, श्रेयस अय्यर और शुभमन गिल ये सभी बल्लेबाज फ्लॉप रहे. रोहित शर्मा जहां दोनों पारी में 12-12 रन ही बना सके. वहीं केएल राहुल की जगह टीम इंडिया में शामिल किए गए शुभमन गिल पहली पारी में 21 तो दूसरी पारी में सिर्फ 5 रन ही बना सके. इसके अलावा विराट कोहली भी पहली पारी में 22 रन तो दूसरी पारी में 13 रन ही बना सके. जबकि श्रेयस अय्यर पहली पारी में शून्य तो दूसरी पारी में 26 रन ही बना सके. इनके अलावा बाकी बल्लेबाज भी इंदौर की पिच में कुछ कमाल नहीं कर सके.

अक्षर पटेल के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव ना करना

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बॉर्डर गावस्कर टेस्ट सीरीज में बतौर स्पिन गेंदबाजी ऑलराउंडर खेलने वाले अक्षर पटेल इन दिनों बाले से शानदार फॉर्म में चल रहे हैं. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों में अक्षर जहां गेंदबाजी से सिर्फ एक विकेट ले सके हैं. वहीं बल्लेबाजी में उन्होंने नागपुर टेस्ट मैच में 84 रनों की पारी तो दिल्ली टेस्ट मैच में निचले क्रम में बल्लेबाजी करते हुए 74 रन बनाए थे. इस लिहाज से टीम इंडिया ने जिस तरह जडेजा को इंदौर टेस्ट मैच में 5वें नंबर पर बल्लेबाजी करने का मौका दिया. ठीक उसी तरह अक्षर को भी उपर भेज सकते थे. जिससे उन्हें बल्लेबाजी करने का मौका मिलता. अक्षर इंदौर टेस्ट की पहली पारी में 12 तो दूसरी पारी में 15 रन पर नाबाद रहे.